Suvichar of chanakya in hindi & english

Chanakya quotes
  1. “शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है. शिक्षित व्यक्ति सदैव सम्मान पाता है. शिक्षा की शक्ति के आगे युवा शक्ति और सौंदर्य दोनों ही कमजोर हैं । चाणक्य””

    Education is the best friend. Educated person always gets respect. Even power of youth and beauty is weaker in front of power of education.   Chanakya”

  2. “दूसरो की गलतियों से सीखो, अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने को तुम्हारी आयु कम पड़ेगी । चाणक्य””

    Learn from others mistakes because your whole life will be too short for doing all these mistakes yourself and learning from them.      Chanakya”

  3. “दुर्बल के यहाँ आश्रय लेने से सदैव दुःख ही होता है ।       चाणक्य “”

    Taking Shelter at weak person’s Home always bring sorrow.”

  4. “कठोर वाणी अग्निदाह (आग में जलने) से भी अधिक तीव्रता से दुःख पहुंचती है ।     चाणक्य”

    “Harsh speech  gives even more pain than burning.    Chanakya”

  5. “गुणहीन व्यक्ति की सुन्दरता व्यर्थ है, दुष्ट स्वभाव वाले व्यक्ति का अच्छे कुल का होना व्यर्थ है, यदि लक्ष्य की प्राप्ति न हो तो शिक्षा व्यर्थ है, जिस धन का सदुपयोग न हो वह धन व्यर्थ है । चाणक्य””

    Bad person’s beauty is vain, evil natured person born in good clan is a waste, if goal is not attained then education is a waste, money which can not be used for good work is a waste.    Chanakya”

  6. “कोई भी काम शुरू करने के पहले तीन सवाल अपने आपसे पूछो —मैं ऐसा क्यों करने जा रहा हूँ ? इसका क्या परिणाम होगा ? क्या मैं सफल रहूँगा ? चाणक्य”

    “Before starting any work ask three questions to yourself — Why I am doing this? What will be the results of it? Whether I will be successful?    Chanakya

  7. “जो धन अति कष्ट से प्राप्त हो, धर्म का त्याग करने से प्राप्त हो, शत्रुओं के सामने झुकने से प्राप्त हो, इस प्रकार के धन को प्राप्त करने की चेष्टा नहीं रखनी चाहिए ।    चाणक्य”
    “Money which is earned from acute pain, sacrifice of religion, succumbing to enemy, should not be desired by anyone.    Chanakya”
  8. “दूसरों के द्वारा गुणों का बखान करने पर बिना गुण वाला व्यक्ति भी गुणी कहलाता है, किन्तु अपने मुख से अपनी बड़ाई करने पर इन्द्र (गुणी व्यक्ति) भी छोटा हो जाता है । चाणक्य”

    “When others glorify qualities of a quality less person then he is believed as a person of merit.  However, on self glory even a learned person is believed as a person without merits.


suvichar in english with meaning ,English suvichar with hindi meaning
Don't forget to Share this:

You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *