Baba Ramdev Quotes In Hindi, Famous Swami Ramdev Sayings, Thoughts

Baba Ramdev Quotes In Hindi, Famous Swami Ramdev Sayings, Thoughts, Anmol Vachan, Suvichar, Shabad in Hindi Images Wallpapers Photos1. जीवन को छोटे उद्देश्यों के लिए जीना जीवन का अपमान है। -स्वामी रामदेव

2. अपनी आन्तरिक क्षमताओं का पूरा उपयोग करें तो हम पुरुष से महापुरुष, युगपुरुष, मानव से महामानव बन सकते हैं। -स्वामी रामदेव

3. मैं परमात्मा का प्रतिनिधि हूँ। -स्वामी रामदेव

4. मैं माँ भारती का अम्रतपुत्र हूँ, “माता भूमि: पुत्रोहं प्रथिव्या:”। -स्वामी रामदेव

5. प्रत्येक जीव की आत्मा में मेरा परमात्मा विराजमान है। -स्वामी रामदेव

6. मैं पहले माँ भारती का पुत्र हूँ बाद में सन्यासी, ग्रहस्थी, नेता अभिनेता, कर्मचारी, अधिकारी या व्यापारी हूँ। -स्वामी रामदेव

7. “इदं राष्ट्राय इदन्न मम” मेरा यह जीवन राष्ट्र के लिए है। -स्वामी रामदेव

8. मैं सदा प्रभु में हूँ, मेरा प्रभु सदा मुझमें है। -स्वामी रामदेव

9. मैं सौभाग्यशाली हूँ कि मैंने इस पवित्र भूमि व देश में जन्म लिया है। -स्वामी रामदेव

10. मैं अपने जीवन पुष्प से माँ भारती की आराधना करुँगा। -स्वामी रामदेव

11. मैं पुरुषार्थवादी, राष्ट्र्वादी, मानवतावादी व अध्यात्मवादी हूँ। -स्वामी रामदेव

12. कर्म ही मेरा धर्म है। कर्म ही मेरि पूजा है। -स्वामी रामदेव

13. मैं मात्र एक व्यक्ति नहीं, अपितु सम्पूर्ण राष्ट्र व देश की सभ्यता व संस्कृति की भिव्यक्ति हूँ। -स्वामी रामदेव

14. निष्काम कर्म, कर्म का अभाव नहीं, कर्तृत्व के अहंकार का अभाव होता है। -स्वामी रामदेव

15. पराक्रमशीलता, राष्ट्रवादिता, पारदर्शिता, दूरदर्शिता, आध्यात्मिक, मानवता एवं विनयशीलता मेरी कार्यशैली के आदर्श हैं। -स्वामी रामदेव

16. जब मेरा अन्तर्जागरण हुआ तो मैंने स्वयं को संबोधि व्रक्ष की छाया में पूर्ण त्रप्त पाया। -स्वामी रामदेव

17. इन्सान का जन्म ही, दर्द एवं पीडा के साथ होता है। अत: जीवन भर जीवन में काँटे रहेंगे। उन काँटों के बीच तुम्हें गुलाब के फूलों की तरह, अपने जीवन-पुष्प को विकसित करना है। -स्वामी रामदेव

18. ध्यान-उपासना के द्वारा जब तुम ईश्वरीय शक्तियों के संवाहक बन जाते हो तब तुम्हें निमित्त बनाकर भागवत शक्ति कार्य कर रही होती है। -स्वामी रामदेव

19. बाह्य जगत में प्रसिध्दि की तीव्र लालसा का अर्थ है-तुम्हें आन्तरिक सम्रध्द व शान्ति उपलब्ध नहीं हो पाई है। -स्वामी रामदेव

20. ज्ञान का अर्थ मात्र जानना नहीं, वैसा हो जाना है। -स्वामी रामदेव

21. द्रढता हो, जिद्द नहीं। बहादुरी हो, जल्दबाजी नहीं। दया हो, कमजोरी नहीं। -स्वामी रामदेव

22. मेरे भीतर संकल्प की अग्नि निरंतर प्रज्ज्वलित है। मेरे जीवन का पथ सदा प्रकाशमान है। -स्वामी रामदेव

23. सदा चेहरे पर प्रसन्नता व मुस्कान रखो। दूसरों को प्रसन्नता दो, तुम्हें प्रसन्नता मिलेगी। -स्वामी रामदेव


Don't forget to Share this:

You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *